म.प्र. लाड़ली लक्ष्मी योजना

म.प्र. लाड़ली लक्ष्मी योजना

  10 May 2018

 

लाड़ली लक्ष्मी योजना

आज हमारे देश में लडकियों का लिंगअनुपात लड़को की अपेक्षा गिरता जा रहा है । कन्या भूर्ण हत्या के कई मामले सामने देखे जा रहे है । कन्या जन्म को लेकर लोगो में नकारात्मक सोच बढ़ रही है । ये ही सब बातो को ध्यान में रखते हुये व बाल विवाह रोकने तथा लड़कियो की समाज में स्थिति को सुधरने के लिए 2006 में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने म.प्र. में लाड़ली लक्ष्मी योजना की शुरुबात की , जिसके अंतर्गत 1 जनवरी 2006 के उपरान्त जन्मी बालिकाओ को इस योजना का लाभ मिलेगा ।

 

इस योजना के उद्देश्य

  • समाज में लड़कियो की स्थिति सुधारना।

  • उनकी शैक्षणिक तथा स्वास्थ स्तिथि में सुधार लाना ।

  • कन्या भूर्ण हत्या रोकना व समाज में उनके जन्म के प्रति सकारात्मक सोच लाना 

  • बाल विवाह रोकना ।

  • गिरते हुऐ लिंग अनुपात को रोकना आदि

 

लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ लेने के लिये पात्रता

  • जिस बालिका के माता- पिता मध्य प्रदेश के मूल निवासी हों तथा आयकर दाता न हो मतलब सरकार को किसी भी प्रकार का टैक्स नहीं देते हो ।

  • दूसरी बालिका के लिये वही माता पिता इस योजना का लाभ ले सकते है जिन्होंने परिवार नियोजन करवा लिया हो।

  • अगर माता पिता अपनी पहली बालिका के लिये इस योजना का लाभ लेते है तो दूसरी संतान के बाद परिवार नियोजन करवाना आवश्यक हो जाता है ।

  • जिस परिवार में प्रथम बालक अथवा बालिका है, तथा दूसरे प्रसव पर दो जुड़वां बच्चियां जन्म लेती हैं, तब दोनों जुड़वां बच्चियों को इस योजना का लाभ दिया जाएगा |

  • अगर प्रथम प्रसूति के समय आपको एक साथ तीन लड़कियो का जन्म होता है तो भी आप तीनों बच्चियों का लाड़ली लक्ष्मी योजना के अंतर्गत लाभ ले सकते है तथा उन तीनो लड़कियों का जीवन सफल बना सकते है |

  • अगर किसी आकस्मिक दुर्घटना में बालिका के माता- पिता की मृत्यु हो जाती है तो इस दशा में बच्ची की उम्र 5 साल होने तक भी आवेदन पत्र लाड़ली लक्ष्मी योजना में प्रस्तुत किया जा सकता है |

  • अगर माता पिता की मृत्यु हो जाये तो इस स्तिथि में  उसके माता पिता का मृत्यु-प्रमाण लगाना होता है ।

  • अगर किसी दंपति की पहली संतान गोद ली हुई हो तो वह उसके लिये भी इस योजना का लाभ ले सकता है ।

  • यदि कोई दंपति बालिका के जन्म् के पहले वर्ष में इस योजना में आवेदन नहीं कर पाया है तो वह दूसरे वर्ष में कलेक्टर को आवेदन कर सकते है परंतु इस आवेदन को स्वीकर करना या मना करना पूरी तरह से कलेक्टर के हाथ में होता है ।

 

योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया

     1.ऑनलाइन (online) प्रक्रिया

  • ऑनलाइन प्रक्रिया मे आवेदक को http:/www. ladlilaxmi.com/ वेबसाइट पर जाना पड़ता है ,जिसे सरकार ने इस योजना के क्रियान्वन के लिये बनाई है ।

  • इस के बाद आवेदक को होम पेज पर दि गई एप्लीकेशन का चुनाव करना पड़ता है । इस चयन के बाद नया पेज खुलता है

  • आवेदक को नए पेज पर अप्लाई थ्रू पब्लिक का चयन करना पड़ता है यहाँ पर फार्म भरने के बाद सेव बटन दबा कर आवेदक को आपना फार्म जमा करना होता है ।

  • आवेदक को अंत में अपने समस्त दस्तावेज स्कैन करके  अपलोड करने की आवश्यकता होती है, और इस प्रकार आप का ऑनलाइन फार्म भर जाता है ।

  1. ऑफलाइन (offline) प्रक्रिया

  • इस प्रक्रिया में लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ लेने के लिए अपने गांव- मोहल्ले के आंगनवाडी केंद्र में संपर्क कर आपको आवेदन करना होगा ।

  • आवेदन पत्र के साथ आपको सभी आवश्यक दस्तावेज संलग्न करना होंगे |

  • अनाथ बालिका की दशा में संबंधित अनाथालय या संरक्षण गृह के अधीक्षक द्वारा बालिका के अनाथालय में |प्रवेश के 1 वर्ष के अंदर बालिका की आयु 6 वर्ष होने के पूर्व संबंधित अधिकारी को आवेदन करना होगा |

 

योजना के अंतर्गत राशि प्राप्त होने की प्रक्रिया व शर्ते

प्रकरण स्वीकृति उपरांत हितग्राही के नाम पर लगातार 5 वर्षो तक रूपये 6000ध्. के राष्ट्रीय बचत पत्र क्रय किये जायेगें। तदोपरांत रू.

बालिका के कक्षा 6 वीं में प्रवेश लेने पर रूपये 2000 कक्षा 9 वीं में प्रवेश लेने रूपये 4000 कक्षा 11 वीं में प्रवेश लेने पर रूपये 7500 का एक मुश्त भुगतान किया जावेगा।

बालिका के कक्षा 6 वीं में प्रवेश लेने पर रूपये 2000 कक्षा 9 वीं में प्रवेश लेने रूपये 4000 कक्षा 11 वीं में प्रवेश लेने पर रूपये 7500 का एक मुश्त भुगतान किया जावेगा।

बालिका की आयु 21 वर्ष होने पर तथा कक्षा 12 वीं परीक्षा में सम्मिलित होने पर शेष एक मुश्त राशि का भुगतान किया जावेगाए किन्तु शर्त यह होगी कि बालिका का विवाह 18 वर्ष की आयु के पश्चात हुआ हो |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *